प्रधानमंत्री मोदी ने जापान के पीएम को मिर्जापुर की दरी देकर बुनकरों का सम्मान बढ़ाया

भदोही। देश के पीएम नरेंद्र मोदी ने जापान दौरे के दौरान वहां के पीएम शिंजो आबे को कई भारतीय हस्तशिल्प गिफ्ट दिए जिसमे खास तौर पर भदोही-मिर्जापुर परिक्षेत्र की बनी दरी भी पीएम मोदी ने शिंजो आबे को भेंट की। पीएम द्वारा मिर्जापुर की दरी भेंट किये जाने को लेकर कालीन परिक्षेत्र के उद्यमियों का उत्साह बढ़ा है। उद्यमियों का मानना है कि जापान में भारतीय कालीन और दरी का बाजार तेजी से बढ़ रहा है ऐसे में पीएम मोदी के इस प्रयास से वहां निर्यात बढाने में मदद मिलेगी।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भदोही कालीन परिक्षेत्र की दरी जापान के प्रधानमंत्री को देने पर खुशी जताते हुए निर्यातकों और बुनकरों ने कहा कि पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने कारीगरों को इतना सम्मान दिया है निर्यातकों ने खुशी जताते हुए कहा कि इससे भारतीय कालीन को दुनिया भर पहचान बनेगी इससे हमारे उत्पादों की ब्रांडिंग और मांग बढ़ेगी । भदोही- मिर्जापुर से कालीन और दरियों का सबसे ज्यादा निर्माण और निर्यात होता है ।
उद्योग की लंबे समय से मांग रही है दरी और कालीन की ब्रांडिंग की जाए । अब प्रधानमंत्री द्वारा जापान के प्रधानमंत्री को दरी दिए जाने से इसकी पहचान बढ़ेगी। निर्यातकों और परिषद के सदस्य का मानना का है जापान भारतीय कालीन के लिए नया मार्केट बन रहा है ऐसे में मोदी का यह कदम उद्योग के लिए मददगार होगा।

मिर्जापुर के कालीन निर्माता और निर्यातक उमेश शुक्ला पहली बार मिर्जापुर दरी दुनिया पहचान दिलाने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा कि इससे कालीन क्षेत्र में बुनकरों के रोजगार में बढ़ोत्तरी होगी इसे लेकर कालीन निर्यात सम्वर्धन परिषद के प्रथम उपाध्यक्ष सिद्धनाथ सिंह ने कहा कि यह मिर्जापुर के साथ पूरे कालीन परिक्षेत्र के लिए बड़ी उपलब्धि है। मिर्जापुर में दरी उद्योग का इतिहास 200 वर्ष पुराना है। इस कला को देश के प्रधानमंत्री ने जापान से पूरे विश्व मे पहुंचाने का काम किया है इससे दरी की ब्रांडिंग में मदद मिलेगी और दरी उद्योग को बढ़ावा मिलेगाहोो

कालीन निर्यात संवर्धन परिषद के चेयरमैन महावीर शर्मा प्रधानमंत्री के इस कदम को ऐतहासिक बताते हुए कहा कि जापान भारत के एक बड़ा आयातक देश बन रहा था ऐसे में भारतीयों प्रधानमंत्री द्वारा उन्हें भारतीय दरी देने से दुनिया भर में इस उत्पाद की जानकारी हुई है इससे जापान के साथ अन्य देशों का भी रुझान बढ़ेगा ,दोनो देशो के बीच व्यापार बढ़ने के साथ इस हेरिटेज उत्पाद का महत्व बढेगा भारतीय कालीन दरी की ब्रांडिग और मार्केंटिंग में मदद मिली है प्रधानमंत्री ने हमारे उत्पाद को इस लायक समझा ही यह हमारे लिए फक्र की बात है उन्हें इसके लिए धन्यवाद
बीते हफ्ते उन्होंने कालीन मेले का उद्घाटन में इन कारीगरों के बनाये दरियों और कालीनों की तारीफ की थी ऐसे उनका यह कदम उद्योग के लिए उत्साह बढ़ाने वाला है

Leave a Reply

Your email address will not be published.