उद्यमियों ने बताया gst को उद्योग विरोधी

भदोही सहित देश भर के कालीन उद्यमी करेंगे GST का विरोध 
जम्मू-कश्मीर, श्रीनगर, पानीपत, जयपुर, आगरा, शाहजहांपुर में भी किया जाएगा विरोध 
विरोध मार्च में सीईपीसी चेयरमैन और सदस्यों भी होंगे शामिल
भदोही। हस्तनिर्मित कालीन के हस्तशिल्पियों, बुनकरों और मजदूरों पर आरोपित 18 फीसदी जीएसटी के विरोध में निकाले जाने वाले विरोध मार्च की व्यापक तैयारियां की गयी है। एकमा के मुताबिक यह विरोध देश के सभी हस्तनिर्मित कालीन क्षेत्र में उद्योग से जुड़े लोग विरोध करेंगे। भदोही में आयोजित विरोध मार्च में सीईपीसी चेयरमैन महावीर प्रसाद शर्मा उर्फ राजा शर्मा भी भाग लेंगे इसमे के राजनीतिक दल सहित कई महत्त्वपूर्ण संगठन भाग लेंगे। विरोध को लेकर कालीन नगरी में जगह बैनर दिखाई पड़ रहे है।

इस बारे में अखिल भारतीय कालीन निर्माता संघ के मानद सचिव पीयूष बरनवाल ने बताया कि कल बुधवार को मर्यादपट्टी स्थित कालीन भवन से निकाले जाने वाले विरोध मार्च में जिले के सभी कालीन उत्पादक क्षेत्रो के हस्तशिल्पी, बुनकर, मजदूर, निर्यातको द्वारा निकाली जाने वाली विरोध मार्च में पूर्वांचल निर्यातक संघ वाराणसी, इंडो अमेरिकन चैम्बर ऑफ कॉमर्स वाराणसी, आल इंडिया कार्पेट यार्न स्पिनर्स एन्ड डीलर्स एसोसिएशन, कालीन निर्यात संवर्धन परिषद के चेयरमैन, पदाधिकारी व प्रसाशनिक समिति के सदस्य व एकमा पदाधिकारी व सदस्य शामिल होंगे। मार्च में भदोही उद्योग व्यापार मंडल भी भाग लेगा। बुनकरों मजदूरों पर लगाए गए 18 फीसदी जीएसटी का कल देश भर के हस्तनिर्मित कालीन उत्पादक व निर्यातक क्षेत्र जम्मू कश्मीर, श्रीनगर, पानीपत, जयपुर, शाहजहांपुर, आगरा सहित अन्य क्षेत्रों में कालीन उद्योग से जुड़े लोग विरोध कर लगाए गए जीएसटी से मुक्त करने की मांग करेंगे।
कालीन परिक्षेत्र भदोही मिर्जापुर वाराणसी में इस मार्च को सफल बनाने के लिए लोगों ने जमकर मेहनत की है। विरोध मार्च को सफल बनाने के लिए एकमध्यक्ष गुलाम सरफुद्दीन अंसारी, पूर्व एकमध्यक्ष रवि पाटोदिया, हाजी शौकत अली अंसारी, अरशद वजीरी, इम्तियाज अंसारी, सुजीत जायसवाल, संजय गुप्ता, बृजेश गुप्ता, सन्तोष गुप्ता, अब्दुल हादी, रजा खां, एचएन मौर्य, शाहिद अली सहित उद्योग से जुड़े अन्य लोगों ने विरोध मार्च को सफल बनाने के लिए अलग-अलग क्षेत्रो में हुई बैठक में भाग लेकर रणनीति बनाई।इसके विरोध को लेकर काल गोपीगंज के में संजय गुप्ता के कंपनी में जुटे निर्यातकों ने गोपीगंज खमरिया ,घोसिया आदि के क्षेत्रों में विरोध की रणनीति बनाई जिसमे काफी निर्यातक शामिल रहे वही कई संघटन भी एकमा के साथ इस विरोध को धार देने में जुटे है लम्बे समय के बाद किसी मुद्दे पर कालीन व्यसायी एकमत से लामबंद है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.