भदोही सहित प्रदेश के 34  जिलो में ईएसआई के हॉस्पिटल खोले जायेगे

लम्बे समय से निर्यातको और कारीगरों की मांग इससे पूरी हो जायेगे कालीन उद्योग से लाखो कारीगर जुड़े है लेकिन भदोही इसका हॉस्पिटल नहीं होने से वे इलाज  नहीं करा पाते है ईएसआईसी ने अपने बीमित कर्मचारियों को उनके जिले में ही रजिस्ट्रेशन और इलाज की सुविधा देने की तैयारी शुरू की है। ईएसआईसी (कर्मचारी राज्य बीमा निगम) ने प्रदेश के 19 जिलों में ईएसआईसी डिस्पेंसरी और कार्यालय खोलने को मंजूरी दी है। .

ईएसआईसी मेडिकल स्कीम अभी 34 जिलों में लागू है। प्रदेश के सभी 75 जिलों को कवर करने को ईएसआईसी ने निर्देश दे दिए हैं। फिलहाल स्कीम में कर्मचारियों को तो नौकरी के चलते बड़े शहरों में इलाज मिल जाता था पर उनके परिजनों को बड़े शहरों में आना पड़ता था। डिस्पेंसरी खुलने के बाद परिजनों को संबंधित जिले में इलाज मिल जाएगा। कानपुर देहात की बीमा डिस्पेंसरी को सितम्बर से शुरू करने की तैयारी है। नई डिस्पेंसरी के बगल में ईएसआईसी का प्रशासनिक कार्यालय भी होगा। नई डिस्पेंसरी में एक डॉक्टर, फार्मासिस्ट, स्टॉफ नर्स समेत आधा दर्जन का स्टॉफ होगा। प्रशासनिक कार्यालय का अलग स्टॉफ होगा। नई डिस्पेंसरी में आधा दर्जन बेड होंगे। पैथालॉजी की जांचें भी होंगी। गंभीर मरीजों का प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें बीमा अस्पताल रेफर किया जाएगा। .

4.5 लाख कर्मचारी इलाज को होते परेशान: 4.5 लाख कर्मचारियों और परिजनों को इलाज कराने के लिए अभी तक कानपुर समेत बड़े जिलों में आना पड़ता है। अब डिस्पेंसरी खुलने के बाद उन्हें जिले में ही इलाज मिलेगा। जरूरत पड़ी तो डॉक्टर वहीं से बीमा अस्पताल रेफर कर देंगे। इन्हें ईएसआईसी अपनी एम्बुलेंस से बीमा अस्पतालों में भेजेगा। .

इटावा, फर्रुखाबाद, कानपुर देहात, फतेहपुर, हरदोई, भदोही, संतरविदास नगर, अमेठी, अमरोहा, बिजनौर, चंदौली, गाजीपुर, हापुड़, हाथरस, मिर्जापुर, मुजफ्फरनगर, रामपुर, संत कबीर नगर, शाहजहांपुर और सीतापुर .

कोप्रदेश में 19 जिलों में डिस्पेंसरी खोलने की मंजूरी मिल गई है। सबसे पहले कानपुर देहात की डिस्पेंसरी खोली जाएगी। इसके निर्माण के लिए अलग प्रोजेक्ट बनाकर दिल्ली मुख्यालय भेजा जाएगा। सभी का अलग-अलग प्रोजेक्ट बनाने के लिए निर्देश जारी किए जा चुके हैं। .

-एपी त्रिपाठी, क्षेत्रीय निदेशक, ईएसआईसी . अभी 34 जिलों में लागू हैं ईएसआईसी मेडिकल स्कीम. प्रदेश के 75 जिलों को कवर करने के दिए गए निर्देश.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *